मै वेब स्टोरीज कैसे बनाता हु।


ब्लॉगर के लिए अभी के लिए वेब स्टोरी बनाना हॉट टॉपिक है। वेब स्टोरीज के जरिए अपने ब्लॉग का ट्रैफिक बढ़ता है, ब्रैंडिंग होती है, और साथ साथ अच्छी कमाई भी होती है।

जब हम इसके बारे में सर्च करते है तो हमें ये बताया जाता है के वेब स्टोरी से पैसे कितने मिलते है। शॉर्ट कट से कैसे कॉपी पेस्ट कर के काम करे। दूसरे का कन्टेन्ट जैसे के तैसे कॉपी कर के करे।

तब मेरे मन में ये सवाल आया के गूगल कैसे बिना लॉजिक के सबको ट्रैफिक दे रहा है। तब मुझे २०१० के आस पास के मेरे ब्लॉग के ट्रैफिक का ख्याल आया। तब मै पोस्ट फाइनेंस के प्रॉडक्ट पे पोस्ट लिखता था। तो उस समय में सिर्फ १०-१५ मिनट में सर्च इंजिन में पहले पेज पे रैंक करती थी।

उस समय ५-१० ही लोग प्रॉडक्ट के बारे में पोस्ट बनाते थे। कोई कॉम्पिटिशन नहीं था। ब्लॉगर को थोड़ा न्यूज़ साइट का कॉम्पिटिशन आता था।

ये बात बताने का मकसद ये है की आज के समय जो वेब स्टोरी का प्लेटफार्म को बढ़ावा देने के लिए और इसमें कॉम्पिटिशन नहीं के बराबर है। इसलिए सभी को ट्रैफिक मिलेगा और पैसा भी।

मैंने वेब स्टोरी पे थोड़ा बहुत रिसर्च किया तो मुझे ये एक अच्छा ऑप्शन लगा। मै ३ से ४ ब्लॉग के जरिए वेब स्टोरी बना रहा हु। हर एक पे अलग अलग स्ट्रैटेजी अजमा रहा हु।

मेरा वेबस्टोरी बनाने का तरीका ?

वेब स्टोरी बनाने में शुरवाती दौर में जो परेशानी आयी उसे देखते मैं कैसे वेबस्टोरी बना रहा हु उसीके बारे में बताता हु।

स्टेप १ – पहले मै विषय के बारे में सोचता हु। इन्वेस्टमेंट /फाइनेंस के वेबस्टोरी के लिए मनीकंट्रोल, टाइम्स, बीएसई जैसे वेबसाइट पे देख लेता हु की क्या ट्रेन्ड शुरू है। जो कीवर्ड लिया है उसपे थोड़ा सर्च करता हु। सब न्यूज़ क्या कह रही वो देखता हु। उसके पॉजिटिव -निगेटिव्ह पहलू को देख लेता हु।

स्टेप २ – अब गूगल डॉक पे एक पेज ओपन करता हु। उसी पे जो सर्च किया है, उसीमेसे लाइन्स उठाता हु। उसे डॉक् में पेस्ट करता हु। हर लाइन के बाद एक एंटर दे के नई लाइन्स बनाता हु। ऐसी १५-१६ लाइन्स का डाटा तैयार हो जाता है।

उस स्क्रिप्ट का वर्डकॉउंट देख लेता हु। १७० से २५० होता है तो ठीक है। ज्यादा होता है तो जो इम्पोर्टेन्ट नहीं है उसे निकाल देता हु।

अब अब जो स्क्रिप्ट है उसे दो तीन बार पढ़ लेता हु। साथ साथ स्लाइड के हिसाब से ऊपर निचे स्क्रिप्ट को करता हु। अब पहली लाइन पे आके उस लाइन को मेरे हिसाब से क्राफ्ट करता हु। सभी लाइन्स को क्राफ्ट करने के बाद फिर से AI टूल्स के जरिए रिफ्रेज़ कर लेता हु।

हर एक लाइन का कॅरक्टर काउंट देखता हु। ८५ से १२० का काउंट हो तो ठीक है , वरना फिर से उस लाइन को कम या ज्यादा कर लेता हु।

सभी स्लाइड मिलाके वर्ड काउंट १८०-२०० के बिच है क्या देख लेता हु। २०० के ऊपर वर्डकॉउंट वेबस्टोरी में अल्लाऊ नहीं है।

स्टेप ३ – अब वेब स्टोरी में जाके एक ब्लेंक पे वेब स्टोरी का कन्टेन्ट कॉपी कर के स्लाइड बनाते जाता हु। कम से कम ८ से १४ स्लाइड बना लेता हु।

स्टेप ४ – कंटेन्ट के लिए स्ट्रक्टर कैसा हो उसे फाइनल किया होता है वही स्टाइल पुरे स्टोरी के लिए रखता हु।

स्टेप ५ – गूगल के प्लगइन में इमेज के लिए unsplash इनबिल्ट है। सिर्फ अपने हिसाब से इमेज को सर्च कर लगाना होता है। सभी इमेज लगने के बाद थोड़ा काम बाकी रहता है।

स्टेप ६ – पोस्टर के लिए मेरे पास एक पेड सॉफ्टवेयर है ऐसी पे से ६४० X ८५३ साइज का पोस्टर बना लेता हु। ये साइज का पोस्टर वेब स्टोरी में बिलकुल फिट बैठता है। क्रॉप करने की जरुरत नहीं होती।

स्टेप ७ – पोस्टर को लगाने के एक स्लाइड टेम्पलेट लगाता हु जो की आखरी स्लाइड होती है। उस पे अलग अलग ३ स्टोरी के लिंक होते है। ये टेम्पलेट मै आगे के १० वेब स्टोरीज पे लगाता हु।

स्टेप ८ – वेब स्टोरी के २-३ लाइनों को मिला के एक १५० शब्दों का डिस्क्रिप्शन बना लेता हु। और कुछ टैग के साथ वेबस्टोरी को पब्लिश कर लेता हु।

स्टेप ९ – वेब स्टोरी को अब देखता हु की कैसी बनी है। कुछ मिस्टेक तो नहीं रही, टेक्स्ट ओवरलैप जैसी चीजों को देख कर फाइनल हो जाता है। कोई करेक्शन हो तो उसे कर के अपडेट करता हु।

स्टेप १० – आखरी महत्वपूर्ण स्टेप – सर्च कन्सोल में लॉगिन कर के स्टोरी को इंडेक्स के लिए डालता हु।

आखरी बात – इसी प्रकार से मै मेरी एक ब्लॉग की वेब स्टोरी बनाता हु। आप कहोगे के जल्दी जल्दी बनाओगे तो १ की जगह २ बन जायेगी। ये भी सही है, अच्छी वेबस्टोरी बनाने का मकसद ये है की इस वेब स्टोरी के जरिए अपने ब्लॉग की ब्रैंडिंग अच्छी बने। ये वेब स्टोरीज लम्बी रेस की होनी चाहिए।

मुझे इस प्रकार से एक वेब स्टोरी के लिए एक से डेढ़ घंटा लगता है। इसी स्क्रिप्ट के जरिये पेड़ टेम्पलेट के सहारे मैं यूट्यूब के एक १-२ मिनट का वीडियो बनाता हु और उसे अपलोड करता हु। उसके लिए मेरे १० मिनट जाते है।

अब तक ३० वेबस्टोरी पब्लिश की है और उसपे एवरेज १५०० के आसपास ट्रैफिक आता है। २५ स्टोरीज के बाद मोनेटाइज के लिए लगाया है। डेली १-२ डॉलर का अर्निंग स्टोरीज के जरिए हो रहा है।


Leave a Reply

Your email address will not be published.