गूगल के जॉन म्युलर का कहना है के लिंक ज्यूस को भूल जाओ और अपना ध्यान अपने वेबसाइट पे दे दो | आप वेबसाइट अपने दर्शको के लिए अच्छी तरह से काम करे ऐसी बनाने पे लक्ष्य केंद्रित करे |

हम अपने ब्लॉग के लिए जो SEO करते है उसमे अपना पुरा ध्यान बैकलिंक बनाने में और लिंक का ज्यूस निकालने में जाता है | हमने बहुत सारा ज्यूस निकाल के रखा है |

और हमें एक ट्वीट के जरिये पता चलता है के इस ज्यूस से हमारे ब्लॉग में जो ताकत आनेवाली थी | अब  उस ज्यूस का फायदा नहीं होनेवाला | 

do फॉलो और no फॉलो का बैलेंस रखना कितना जरुरी होता है | ये बात हम जब SEO सीखते तब देखते है, लेकिन इसपे भी जॉन म्युलर अपने दूसरे ट्वीट में कहते है के ये बात सही नहीं है | 

इससे SEO के मायने बदल जाते है |  और हमें सोच में दाला गया है के क्या करे | ये बात गूगल के जॉन म्युलर ने बहोत बार बताई है | लेकिन इस बार सीधा इशारा करके बताने की कोशिश की गयी है के हमें क्या करना है | 

हमें  अपने दर्शको को  अच्छा कन्टेन्ट और साइट का स्ट्रक्चर जैसे के साइट मेनू, केटेगरी, इंटरनल लिंकिंग ये सब चीजे हमारे दर्शको कितनी फायदेमंद होगी | उसे देखते हुए अपना ब्लॉग या वेबसाइट बनानी है | दर्शको को अच्छा लगेगा वही सर्च इंजिन को अच्छा लगता है |

हमें एक बात सीखनी होगी के SEO करना जरुरी है | लेकिन जो इसका हाइप किया गया है के बैकलिंक चाहिए, डु फॉलो , नो फॉलो, ऐसे बहुत सारी बाते पढ़ के हम उनके पीछे भागते है | हमें ये सिखाया जाता है के आपको सक्सेस सिर्फ एसईओ करने से मिलनेवाला है |

इसके चक्कर में जो हमारा कंटेन्ट का काम छोड़ के इनके पीछे भागते है | मैने जब शुरवाती दौर में ब्लॉग बनाया था | तब इन बातो के बारे ज्यादा नहीं जानता था |

इन्वेस्टमेंट के टॉपिक पे काम किया था तब एक ही बात दिमाग  में थी के जो मै सर्च कर रहा हु और मुझे आधा अधूरा प्रॉडक्ट का नॉलेज मिल रहा था | उसके लिए बहुत सारी वेबसाइट और ब्लॉग पे वही प्रॉब्लम आती थी | उसे देखते हुए बाकी ब्लॉग जो नहीं बता रहे थे | वो सब डिटेल्स मैंने ब्लॉग के जरिये डाली थी |

उससे मेरा नया ब्लॉग पहले पेज पे रैंक करता था | और उससे लीड के जरिये मेरा काम होता था | लेकिन आगे जैसे ज्यादा समझ आने लगा तो बेसिक बाते भूलते चला गया | कंटेन्ट और SEO दोनों पे ५०/५० ध्यान जा रहा है | उसमें से कन्टेन्ट का समय ८० प्रतिशत करना सही रहेगा |

आप ब्लॉगर या SEO एक्सपर्ट का पहना हुआ चश्मा निकाल के दर्शक के चश्मे से देखे के सही में जो सर्च कर रहे है उसका रिजल्ट आपको मिल रहा है क्या ?

आप कमेंट के जरिये अपनी राय बताते है तो हमें सभी को जो कुछ चैंजेस करने है उसके लिए फायदा हो सकता है |