ब्लॉगर के लिए एडसेंस एक पैसे कमाने का जरिया है |  हमें मालूम होता है के हम एडसेंस के जरिए पैसे कमा सकते है | हमें इसका आधा अधूरा नॉलेज होता है |

हमें एडसेन्स की साइट सारी जानकारी होती है | लेकिन वो समझने थोड़ी क्लिष्ट होती है | इसके बारे आप के बहुत सारे सवाल होते है और उसका समाधान आपको एक ही जगह पे नहीं मिलता |

इसको ध्यान में रखते हुए इस पोस्ट के जरिए सभी सवालो के जवाब इक्कठा करके आप के लिए थोड़ी राहत देनी की कोशिश कर रहा हु |

गूगल एडसेन्स क्या है ?

गूगल एडसेन्स एक ऐसा प्लेटफार्म है के इसके जरिए हम पैसे कमा सकते है | एडसेन्स का प्लेटफार्म दो लोगो को जोड़ने का काम करता है |

इसमें एडवरटाइजर और पब्लिशर्स ऐसे दो टाइप होते है | गूगल एडसेन्स के जरिए जिन्हे अपने प्रॉडक्ट की अड़स दिखानी होती है | उसे गूगल अपने साथ जुड़े पब्लिशर्स के ब्लॉग या वेबसाइट के जरिए दिखाता है |

इसमें गूगल का काम मध्यस्त के रूप में होता है ||इस प्लेटफार्म पर हम जब पब्लिशर्स  तौर पे रजिस्टर करते है | तब हमारे ब्लॉग पे जो अड्स दिखाई जाती है | उसके बदले हमें गूगल के तरफ से पैसे दिए जाते है |

एडसेन्स एडवरटाइजर से जो पैसे लेता है उसमे से ब्लॉग पर अड्स दिखाने के बदले पब्लिशर्स को उसका भुगतान किया जाता है | इसमें गूगल रेवेन्यू का कुछ हिस्सा अपने पास रख लेता है |

इस प्लेटफार्म के जरिये लोगो को जो कीवर्ड पे सर्च कर रहे है | उसको देखते हुए अड्स दिखाई जाती है | हम हमेशा देखते है के हम जिसके बारे में सोचते है उसीके बारे में हमें अड्स कैसे दिखाई देते है |

इसके लिए गूगल जो हम टाइप करते है और अपने ब्राउज़र में से कुकीज़ का सहारा लेके हमें अड्स दिखाता है |

गूगल एडसेन्स अकाउंट कैसे बनाए ?

गूगल एडसेन्स पर अपना अकाउंट बनाने की प्रकिया बहुत ही सिंपल है | इसके लिए हमें गूगल मेल की जरुरत होती है और साथ अपने बारे में डिटेल्स डालने  होते है |

आप को ब्लॉगर या यूट्यूब पे अप्रूवल लेना है तो उसके लिए ब्लॉगर पे ही ऑप्शन है | और यूट्यूब में मोनेटाइज का ऑप्शन आपके लॉगिन में मिल जाता है | 

लेकिन इसके लिए कुछ नियमो का पालन करना होता है | हमें एडसेन्स अकाउंट से अपने ब्लॉग या वेबसाइट के लिए अप्रूवल लेना पड़ता है | जबभी हमें नया ब्लॉग बनाते है उसके लिए अलग से अप्रूवल लेना पड़ता है | आपको यूट्यूब के लिए अप्रूवल लेना हो तो उसके लिए रूल्स थोड़े अलग है |

  • एडसेन्स वेबसाइट पे जाके शुरू करे – लिंक  https://www.google.com/adsense/start/ 
  • लॉगिन करके वेबसाइट की डिटेल्स डाले | और अपनी पर्सनल kyc डिटेल्स देनी है |
  • आपको अब इन्स्ट्रक्शन के मुतालिक अपने वेबसाइट के हैडर में कोड दाल दे | आपका ब्लॉग वर्डप्रेस पैर होगा तो आप अपने ब्लॉग पर इनसर्ट हैडर फुटर प्लगइन को इस्तमाल कर सकते है |
  • आपने अपने ब्लॉग के हैडर में कोड करके सेव करने के बाद एडसेन्स में सबमिट बटन क्लिक करना है |
  • अब आपका अकाउंट गूगल टीम के पास रिव्यु के लिए गया है |
  • अपने वेबसाइट पे एडसेन्स का कोड दाल के रखे | 
  • आप अब अपने अकाउंट के अप्रूवल का वेट करे | इसमें कभी कभी १ महीने का समय भी लग सकता है | 

 

एडसेन्स अकाउंट के लिए क्वालीफाई करने का क्राइटेरिया क्या है ?

अपने ब्लॉग अब एडसेन्स लेने के लिए तैयार हो गया है ये समझने का तरीका हमें गूगल एडसेन्स बताया है | लेकिन बहुत सारे लोगो के अनुभव से कुछ नियमो को देखते है | उससे अप्रूवल मिलना आसान बन सकता है |

  • गूगल की पब्लिशर पॉलिसी को जान ले |
  • १००० वर्ड के २५-३० पोस्ट होने चाहिए |
  • आपका डोमेन ३ महीने पुराना होना चाहिए |
  • अबाउट अस , प्राइवेसी पॉलिसी , कॉन्टैक्ट उस जैसे बेसिक पेजेस |
  • वेबसाइट ट्रैफिक  कम होगा तो भी चलता है | लेकिन डेली १०० के उप्पेर ट्रैफिक होता है तो बढ़िया होगा | 

इन चीजों से बचे 

  • वेबसाइट पे कंटेन्ट कम होना या डुप्लीकेट कंटेन्ट होता है तो प्रॉब्लम आती है |
  • वेबसाइट का स्ट्रक्चर सही से होना जरुरी है | 

एडसेन्स का पिन वेरिफिकेशन कैसे होता है ?

जब आपके एडसेन्स का इनकम पेआउट की लिमिट के पास आता है | तब हमने प्रोफाइल में जो एड्रेस दिया है उस एड्रेस को पोस्ट के जरिए PIN का इन्वलप भेजा जाता है |

जब हमें पिन मिल जाता है | उसे हमें एडसेन्स अकाउंट के जरिये पिन दाल के अकाउंट एक्टिवेट करना होता है | उसके सिवा हमारा पेआउट रिलीज़ नहीं किया जाता | इस पिन की वैलिडिटी ४ महीने की होती है |

आप इसके लिए एडसेन्स पे ज्यादा जानकारी पा सकते है | 

कोनसे कंटेन्ट पर एडसेन्स का अप्रूवल नहीं मिलता ?

एडसेन्स पॉलिसी के हिसाब से कुछ कंटेन्ट को अप्रूवल दिया  जाता |

  • एडल्ट कंटेन्ट
  • ड्रग्स रिलेटेड (अल्कोहल और टोबैको इसमें शामिल है )
  • हिंसा के बारे में 
  • कॉपीराइट कंटेन्ट  

एडसेन्स पर अपने CPC को कैसे बढ़ाए ?

हिंदी ब्लॉगर के लिए एडसेन्स की कम CPC बड़ी समस्या है | इसका कारण ये है के अब तक हिंदी ब्लॉग ज्यादा प्रचलित नहीं है |

आपको CPC बढ़ाने के लिए  मालूम होना चाहिए के कोनसे कीवर्ड का CPC ज्यादा आता है | और उस  कीवर्ड के जरिए आपके ब्लॉग पे ट्रैफिक आता है | तो उस समय कोई क्लिक करता है | तो हमें बढ़िया CPC मिल सकता है |

आपको कीवर्ड का चयन अच्छी तरह  करना होगा | इससे आपके कमाई में बढ़ोतरी हो सकती है | 

एडसेन्स के बिना यूट्यूब पे अड्स कैसे लगाए ?

गूगल एडसेन्स के बिना अपने यूट्यूब चॅनेल पे दूसरे अड्स चलना संभव नहीं है | लेकिन आप थोड़े अलग तरह से आप अपने चॅनेल से पैसे कमा सकते है |

इसमें आप एफिलिएट , डिस्क्रिप्शन में लिंक देके, किसी प्रॉडक्ट का रिव्यु करके या कंपनी से पैसे लेके उनके प्रॉडक्ट के बारे में बात करके पैसे बना सकते है |

एडसेन्स अकाउंट ब्लॉक होने की वजह क्या होती है ?

गूगल एडसेन्स पर आपको अप्रूवल मिलता है | तो पहले ये समझ ले के हम इसे उल्लू बना सकते है | ये बड़ा मूर्खतापूर्ण कदम हो सकता है | 

आप अभी सिख रहे और आप गूगल के एक्सपीरियन्स के सामने कुछ भी नहीं है | आपने अभी अभी सीखी सभी तरकीबे गूगल को मालूम है | और आप कुछ गलत तरीके से क्लिक करने की कोशिश करते है तो आप अकाउंट ब्लॉक हो जाता है |

  • अपने विज्ञापनों  पे गलती से भी क्लिक ना करे | और खुद ही इम्प्रैशन बढ़ाने की कोशिश ना करे | इसके लिए कोई दूसरा तरीका ढूंढने की कोशिश भी ना करे | इतना ध्यान रखे गूगल आप से एक कदम आगे होता है इस मामले में |
  • एडसेन्स कोड को पॉप अप , ईमेल या सॉफ्टवेयर में डालने की गलती ना करे |
  • आपके के जरिए विद्यापन देनेवाले को नुकसान हो ऐसी हरकत से बचे |
  • आप गूगल की विद्यापन पॉलिसी को पढ़ ले ये सबसे जरुरी काम है | आपको पॉलिसी को पढ़ने से आगे आनेवाली परेशानी से बचने में मदद मिल सकती है |

ब्लॉगस्पॉट का उपयोग करनेवाले को एडसेन्स के बारे में आनेवाले सवाल ?

ब्लॉगस्पॉट ब्लॉग को एडसेन्स से कैसे जोड़े ?

आपके ब्लॉगर अकाउंट में आपके ब्लॉग में earning tab है | उसके जरिए आप अप्लाई कर सकते है | 

ब्लॉगर पे थीम बदलनेसे एडसेन्स में कोई प्रॉब्लम आती है ?

थीम बदलनसे एडसेन्स में प्रॉब्लम नहीं आती  | सिर्फ आपको ये देखना है के आपकी नयी थीम से कोई गूगल पॉलिसी पे असर न डाले | उस थीम का उपयोग करनेवाले दूसरे ब्लॉग पे एडसेन्स चल रहा है क्या देखे |  

आखरी शब्द

गूगल एडसेन्स का अप्रूवल लेना आसान है लेकिन उसे संभालना मुश्किल काम है | जब आपको अप्रूवल मिलता है तो आप सभी रूल्स का पालन करे | और अपना अकाउंट बैन होनेसे बचे |